Mars in 11th house | कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह की स्थिति देगी शुभ परिणाम

मंगल ग्रह

ज्योतिष शास्त्र की गणना के मुताबिक, कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह स्थिति से जातक को स्वयं और उनके परिवार के लिए आय या जीविका अर्जित करने के प्रयासों, हेतु पूर्ण परिणामों का आश्वासन देता है।

Table of Contents

ज्योतिष में : ग्यारहवें भाव का महत्व 

वैदिक ज्योतिष में कुंडली के ग्यारहवें भाव को एक शुभ भाव (घर ) माना जाता है, जिसे लाभ का घर भी कहा जाता है। लाभ का अर्थ है लाभ, और कुंडली के ग्यारहवें भाव,आय और लाभ का एक मजबूत संकेतक है। यह समृद्धि, अचानक लाभ, धन, प्रचुरता और आय का प्रतिनिधित्व करता है।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : प्रभाव 

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, कुंडली के ग्यारहवें भाव में स्थित मंगल ग्रह के जातक में, धैर्यवान होने का गुण आता है।इस भाव का मंगल ग्रह जातक को नई-नई जगहों पर घूमने-फिरने का मौका भी देता है। इसके अलावा इस भाव में मंगल ग्रह से प्रभावित जातक साहसी व्यक्ति होते हैं। और वें अपने जीवन काल में बहुत लाभ कमाते हैं। लेकिन कुंडली के इस लाभ भाव में मंगल ग्रह के प्रभाव से जातक में क्रोध की अधिकता हो सकती है जिस पर नियंत्रण पाना आवश्यक है। इसके अलावा ऐसे जातक कुछ हद तक कटुभाषी भी हो सकते हैं। अत: ज्योतिष की सलाह में वाणी में मिठास और नियंत्रण करना आवश्यक भी होगा।

इसके साथ भी कुंडली के ग्यारहवें भाव मंगल ग्रह के प्रभाव से इन जातकों को मित्रों के सहयोग से अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने का अवसर मिलेगा परंतु मित्रों से जातक का मतभेद और विरोध होना भी संभव हो सकता है। हालांकि ऐसे जातकों की मित्रों की संख्या अधिक नहीं होती है और ऐसे मित्र आपके लिए सहयोगी भी रहेंगे। मंघल ग्रह के शुभ प्रभाव से ये जातक अपने गुरुजनों का बहुत सम्मान करते हैं। इन जातकों के स्वभाव में राजसी गुण भी पाए जाते हैं। 

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक कुंडली के पांचवें भाव पर दृष्टि होने के कारण ग्यारहवें भाव में स्थित मंगल ग्रह के प्रभाव के कारण जातक को कुछ संतान से संबंधित परेशानियां हो सकती है जैसे कि संतान के जन्म में विलंब या गर्भपात जैसी स्थिति हो सकती हैं। साथ ही ये जातक कटु वाणी के हो सकते है और यदि जातक के संस्कारों ने अनुमति दी तो वें अपनी रुचि मांसाहार में भी कर सकते है। ज्योतिष के अनुसार, जातक के बडे भाई-बहन कुछ चिडचिडे स्वभाव के हो सकते हैं।

ज्योतिष में : मंगल ग्रह का महत्व 

वैदिक ज्योतिष में, मंगल क्रिया, ऊर्जा और पहल का ग्रह है, वह ग्रह जो मार्गदर्शन करता है कि हम क्या करते हैं और कैसे करते हैं। ज्योतिष शास्त्र में, जन्म कुंडली में मंगल की स्थिति आपकी अद्वितीय ड्राइव और ऊर्जा पैटर्न का प्रतिनिधित्व करती है। जबकि 11वां घर आय और लाभ का एक मजबूत संकेत है, यह समृद्धि, अचानक लाभ, धन, प्रचुरता और राजस्व का प्रतिनिधित्व करता है। ज्योतिष में 11वां घर आपके सामाजिक क्षेत्र का भी प्रतिनिधित्व करता है और सामाजिक गतिविधियों और मामलों में आपकी रुचि को नियंत्रित करता है। यदि मंगल ग्यारहवें भाव में हो तो जातक गुणवान, सुखी, साहसी और धन-संपदा से संपन्न होगा।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : सकारात्मक प्रभाव

ज्योतिष के अनुसार, जातक की वृद्धि भाव में मंगल ग्रह शुभ माना जाता है और रास्ते में संभावित बाधाओं के बावजूद धीरे-धीरे बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करता है। ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह के कुछ सकारात्मक परिणाम इस प्रकार हैं-

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह से प्रभावित जातक बहुत लक्ष्य-उन्मुख होते हैं और अपने लिए सभी प्रकार के लक्ष्य निर्धारित करने में बहुत समय व्यतीत करते हैं। वे अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे और टीमों में अच्छा काम कर सकते हैं। यह अनुकूल गुण उन्हें बड़े लक्ष्य हासिल करके सफल होने के लिए प्रेरित करता है।

जन्म कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह से प्रभावित जातक अपने मित्र मंडली में महान समाज सेवक और प्रेरक होते हैं। कई लोग बौद्धिक रुचि रखने और नेतृत्व करने का तरीका जानने के लिए उनकी सराहना करेंगे। वे बहुत उत्साही प्रवृत्ति के होते हैं, और इस प्रकार लोग उन्हें बहुत प्रभावशाली और सक्षम के रूप में देखेंगे।

मंगल ग्रह और कुंडली के ग्यारहवें भाव में शुभ ग्रहों के साथ यह युति जातक को सक्षम और साहसी बनाती है। यह स्थान उन्हें मित्रता विकसित करने के लिए प्रभावित करता है जिसमें वे हमेशा प्रतिस्पर्धा करना चाहेंगे। वे ऐसे लोगों के साथ रहना पसंद करते हैं जो आदेश देने के बजाय उनसे प्रतिस्पर्धा करना पसंद करते हैं। ज्योतिष के अनुसार, कुंडली का ग्यारहवां भाव आकांक्षाओं, इच्छाओं, लाभ और मुनाफे का प्रतिनिधित्व करता है। कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल की स्थिति जातक को प्रचुर धन लाभ का आशीर्वाद देती है। ग्यारहवें भाव में स्थित मंगल जातक को पर्याप्त लाभ के साथ उद्यमों में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : नकारात्मक प्रभाव

यदि कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह अनुकूल स्थिति में नहीं है, तो यह गंभीर बाधाओं और बाधाओं को इंगित करता है जो लक्ष्यों को प्राप्त करने की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं। ग्यारहवें भाव में मंगल के कुछ नकारात्मक प्रभाव इस प्रकार हैं-

ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह वैदिक ज्योतिष जातकों को इस तरह प्रभावित करता है कि उनका दिमाग विचारों के बीच दौड़ता रहता है, इसलिए इन लोगों को अपने विचारों को व्यवस्थित करने की आवश्यकता हो सकती है। वे धीमी गति से नहीं चल सकते या बहुत लंबे समय तक एक ही वस्तु पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते।

इसके अलावा कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह वाले जातक आसानी से जुड़ जाते हैं लेकिन सतही होते हैं। कभी-कभी, वे आलोचनात्मक हो जाते हैं और जानकारी को सत्यापित करने में मुश्किल से प्रयास करते हैं। जन्म कुंडली के ग्यारहवें भाव में स्थित मंगल ग्रह जातक को असहिष्णु और संकीर्ण सोच वाला बना सकता है। वे नए विचारों या अन्य लोगों की राय पर विचार करने को तैयार नहीं हैं। यह लक्ष्यों का पीछा करते समय स्वार्थी, हिंसक और आक्रामक होने का भी संकेत देता है।

वैवाहिक जीवन में  हो समस्या, या करियर का सही चुनाव नहीं कर पा रहे हैं? तो बिना देर आज हो संपर्क करें ‘मंगल भवन’ और पाएं अपनी हर समस्या का समाधान ।

ग्यारहवें भाव में मंगल के साथ जातकों के लिए भविष्यवाणी करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। वे बहुत अप्रत्याशित होते हैं, जब आपको लगता है कि आप उन्हें जानना शुरू कर रहे हैं, तो वे कुछ ऐसा करते हैं जो आपको पूरी तरह से आश्चर्यचकित कर देता है। 11वें घर में मंगल की समस्याओं को उचित उपायों से हल किया जा सकता है।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : पारिवारिक संबंधों पर प्रभाव 

ज्योतिष के अनुसार, जिस जातक के जन्म के समय लग्न से ग्यारहवें यानी लाभ भाव के स्थान में मंगल ग्रह हो तो यह स्थिति धन के लिए तो शुभ है परन्तु मंगल ग्रह संतान तथा शत्रुओं के लिए अच्छा नहीं होता क्योंकि गणना के मुताबिक कुंडली के ग्यारहवें भाव का मंगल ग्रह इन दोनों भाव और उस भाव से सम्बन्धित प्रभावों के कारण जातक को जीवन में समस्याएं पहुंचाता है। कुंडली का मंगल ग्रह ग्यारहवें  भाव में मामा पक्ष के लिए बहुत शुभ नहीं माना जाता है। ऐसे जातकों की पहली पुत्र संतान बहुत जल्द गुस्सा करने वाला होगा, साथ ही उसे दुर्घटनाओं और चोट लगने का भय बना रहेगा। 

इसके अलावा यदि मंगल ग्रह ग्यारहवें भाव में किन्हीं अशुभ ग्रहों के साथ है तो निश्चित ही गर्भ स्थित संतान की हानि होती है। साथ प्रेम में पड़े जातकों हेतु संभलकर रहने की सलाह दी जाती है, मान सम्मान को धक्का लग सकता है। 

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : स्वास्थ्य पर प्रभाव 

ज्योतिष के अनुसार, जब जन्म कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह विराजमान होता है तब जातक का स्वास्थ्य सामान्यतः अच्छा ही रहता है। उसकी पाचन शक्ति मजबूत होती है। हालांकि कुछ पेट की तकलीफों और कब्ज जन्य रोगों से परेशान हो सकते हैं। और साथ ही घुटने में दर्द की बीमारी हो सकती है।

मंगल ग्रह

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : आर्थिक एवं व्यावसायिक स्थिति पर प्रभाव  

ज्योतिष शास्त्र में माना जाता है कि कुंडली के लाभ भाव का मंगल ग्रह व्यापारियों के लिए बहुत ही लाभदायक व शुभ फल दायक होता है परन्तु कब यदि वे ऐसा तब ही होगा जब ये जातक कोई व्यापार अपनी स्वयं की पूंजी से शुरू करे। उदाहरणस्वरूप – यदि आप अपने स्वयं के व्यापारी धन से जमीन खरीदते है उसके बाद उस जमीन को कुछ हिस्सों  में घर या कॉलोनी बसाने के लिए बेचते है तो इस जमीन से आपको भारी लाभ हो सकता है।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह : कुछ आसान उपाय 

  1. मंदिर में या किसी धार्मिक स्थान पर मिठाइयाँ बाँटें।
  2. किसी बरगद के पेड़ पर मीठा दूध अर्पित करें।
  3. सुबह सबसे पहले शहद का सेवन करें।
  4. बंदरों को खाना खिलाना मंगल के नकारात्मक या अशुभ प्रभाव को खत्म करने का एक अच्छा उपाय है।
  5. नियमित रूप से हनुमान मंदिर जाएं।
  6. दोस्तों और रिश्तेदारों को तांबे के बर्तन उपहार में दें।

कुंडली के ग्यारहवें भाव में मंगल ग्रह से सम्बंधित- सामान्यप्रश्न- FAQ

 

Q- क्या कुंडली के ग्यारहवें भाव में में मंगल मजबूत होता है?

An- ग्यारहवें भाव में मंगल आपको एक अच्छा टीम खिलाड़ी और एक अच्छा योजनाकार बनाता है जो लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर सकता है; लोग आपको एक प्रभावशाली व्यक्तित्व के रूप में देखते हैं । ग्यारहवें घर में सकारात्मक मंगल आपको एक बड़ा सामाजिक नेटवर्क देता है। इस स्थिति में मंगल गुरु मंगल योग बना सकता है जो आपको धनवान और समृद्ध बना सकता है।

Q- मंगल शुभ हो तो क्या होता है?

An- कुंडली में मंगल शुभ हो तो लक्ष्मी योग, रूचक योग जैसे योग बनता है जो अपार सफलता के साथ साथ बेशुमार शोहरत और धन दिलाता है. कुंडली में अगर मंगल मजबूत स्थिति में बैठा हो तो कुंडली में दो ऐसे योग बनाता है जो इंसान की जिंदगी बदल कर रख देता है।

Q- मंगल कौन सी राशि में उच्च का होता है?

An- मंगल ग्रह मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह है और यह मकर राशि में उच्च का और कर्क राशि में नीच अवस्था में है।

Q- मंगल की मित्र राशि कौन सी है?

An- नवग्रहों में सूर्य-सिंह राशि, चंद्रमा-कर्क राशि, मंगल-मेष व वृश्चिक, बुध-मिथुन व कन्या, गुरु-धनु व मीन राशि, शुक्र-वृषभ व तुला तथा शनि-मकर व कुंभ राशि के स्वामी होते हैं।

Related Post

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *